RAJYOGA (Hindi) | Swami Vivekanand | Paper Back

You Save: ₹

About the Author स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनक... Read More

Available In:
    Check Pincode

    notReturnable
    Not Returnable
    notCancellable
    Not Cancellable
    cod_not_allowed
    COD Not Available
    free-delivery
    Free Delivery Available
    not-free-delivery
    Free Delivery Not Available

    Publisher : Prabhat PaperBacks

    About the Author

    स्वामी विवेकानंद का जन्म 12 जनवरी, 1863 को कलकत्ता में हुआ था। इनका बचपन का नाम नरेंद्रनाथ था। इनके पिता श्री विश्‍वनाथ दत्त कलकत्ता हाईकोर्ट के एक प्रसिद्ध वकील थे। इनकी माता श्रीमती भुवनेश्‍वरी देवीजी धामर्क विचारों की महिला थीं। बचपन से ही नरेंद्र अत्यंत कुशाग्र बुद्ध के और नटखट थे। परिवार के धामर्क एवं आध्यात्मक वातावरण के प्रभाव से बालक नरेंद्र के मन में बचपन से ही धमर् एवं अध्यात्म के संस्कार गहरे पड़ गए। पाँच वर्ष की आयु में ही बड़ों की तरह सोचने, व्यवहार करनेवाला तथा अपने विवेक से हर जानकारी की विवेचना करनेवाला यह विलक्षण बालक सदैव अपने आस-पास घटित होनेवाली घटनाओं के बारे में सोचकर स्वयं निष्कर्ष निकालता रहता था। नरेंद्र ने श्रीरामकृष्णदेव को अपना गुरु मान लिया था। उसके बाद एक दिन उन्होंने नरेंद्र को संन्यास की दीक्षा दे दी। उसके बाद गुरु ने अपनी संपूर्ण शक्‍त‌ियाँ अपने नवसंन्यासी शिष्य स्वामी विवेकानंद को सौंप दीं, ताकि वह विश्‍व-कल्याण कर भारत का नाम गौरवान्वत कर सके। 4 जुलाई, 1902 को यह महान् तपस्वी अपनी इहलीला समाप्त कर परमात्मा में विलीन हो गया।.

    • ASIN ‏ : ‎ 9350486083
    • Publisher ‏ : ‎ Prabhat Prakashan; 1st edition (1 January 2019); Prabhat Prakashan - Delhi
    • Language ‏ : ‎ Hindi
    • Paperback ‏ : ‎ 200 pages
    • ISBN-10 ‏ : ‎ 9789350486085
    • ISBN-13 ‏ : ‎ 978-9350486085
    • Reading age ‏ : ‎ 18 years and up
    • Item Weight ‏ : ‎ 159 g
    • Dimensions ‏ : ‎ 20.3 x 25.4 x 4.7 cm
    • Country of Origin ‏ : ‎ India
    • Importer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan - Delhi
    • Packer ‏ : ‎ Prabhat Prakashan - Delhi
    • Generic Name ‏ : ‎ Book