PREMYOG (Hindi) | Swami Vivekanand | Paper Back

You Save: ₹

संसार में यह एक प्रेरक शक्ति है। मनुष्य जैसें -जैसें उन्नत्ति करता ज... Read More

Available In:
    Check Pincode

    notReturnable
    Not Returnable
    notCancellable
    Not Cancellable
    cod_not_allowed
    COD Not Available
    free-delivery
    Free Delivery Available
    not-free-delivery
    Free Delivery Not Available

    Publisher : Prabhat PaperBacks

    संसार में यह एक प्रेरक शक्ति है। मनुष्य जैसें -जैसें उन्नत्ति करता जायेगा, वैसें वैसें विवेक और प्रेम उसके जीवन में आदर्श बनते जायेंगे। भक्ति को अपना सर्वोच्च आदर्श बनाना चाहिए तथा संसार और इंद्रियों से धीरे धीरे अपना रास्ता बनाते हुए हमें ईश्वर तक पहुचना है अथार्थ् भक्ति, भक्त और भगवान तीनों एक है।